भारत में डेरिवेटिव के प्रकार

निवेशक वित्तीय बाज़ार में अपनी पूंजी का निवेश इस आशा के साथ करता है कि उसे अच्छा रिटर्न मिलेगा। हालांकि, निवेश प्रतिभूतियों के भीतर, जैसे कि इक्विटी, मुद्रा, वस्तु और अन्य के मूल्यों में अस्थिरता  होने के कारण  जोखिम के अधीन हो सकता है। इन उतार-चढ़ाव के परिणाम स्वरूप, सभी पूर्वानुमान एक या दो तरीकों में हो सकते हैं। इससे निवेशकर्ता के अपने पूरे निवेश की हानि होने के अवसर बढ़ जाते हैं। इस कारण से, ट्रेडर्स की मुख्य चिंता विशेष रूप से वित्तीय बाजारों में रिटर्न के प्रवाह से संबंधित जोखिम की तब होती है, जब वह नियमित रूप से ट्रेड करते हैं।

विभिन्न हितों की अपील के लिए, बाजार में विभिन्न प्रकार के साधन उपलब्ध हैं जो किसी ट्रेडर को वित्तीय बाजार की अस्थिरता और जोखिमों से बचा सकते हैं। ऐसे उपकरण न केवल ट्रेडर्स की सुरक्षा करते हैं बल्कि संभावित लाभ की गारंटी भी देते हैं। ऐसे साधन डेरिवेटिव होते हैं। सच यह है कि यह सीखना आश्चर्यजनक है कि बाज़ार में कितने प्रकार के डेरिवेटिव्स मौजूद हैं। इस लेख में, हम डेरिवेटिव प्रतिभूतियों की अवधारणा और विभिन्न प्रकार के वित्तीय डेरिवेटिव्स  के बारे में जानेंगे जिनमें कोई निवेश  करने पर विचार कर सकता है। लेकिन पहले, यह जानते हैं कि डेरिवेटिव का क्या अर्थ है।

डेरिवेटिव्स क्या होते हैं?

जो वित्तीय अनुबंध उसमें शमिल परिसंपपत्तियों से अपना मूल्य अर्जित करते हैं, डेरिवेटिव्स के रूप में जाने जाते हैं। डेरिवेटिव के मूल्य बाज़ार की स्थितियों के अनुसार परिवर्तित होते   रहते हैं। डेरिवेटिव्स की ट्रेडिंग  उसमें अंतर्निहित परिसंपत्ति के भावी मूल्यों की हलचल के पूर्वानुमान के आधार पर की जा  सकती है। चर्चा के दौरान,डेरिवेटिव अनुबंध का प्रयोग प्रायः अच्छे प्रतिफल का अनुमान लगाते समय  किया जाता है। डेरिवेटिव प्रतिभूतियों का उपयोग अतिरिक्त एसेट, सुरक्षा कवच और अन्य जैसे विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। आइए अब भारत में डेरिवेट्स के विभिन्न प्रकारों पर दृष्टि डालते हैं।

भारत में डेरिवेटिव्स के प्रकार

भारत में चार अलग-अलग प्रकार के डेरिवेट्स होते हैं जिंनका भारतीय शेयर बाज़ार पर सुविधाजनक रूप से ट्रेड किया जा सकता है। विभिन्न अनुबंध अपनी स्थिति, जोखिम कारक और अन्य भिन्न भिन्न होने के कारण प्रत्येक दूसरे से भिन्न –होते हैं। विभिन्न डेरिवेटिव प्रतिभूतियाँ निम्न प्रकार की होती है:

  • फ्यूचरअनुबंध
  • आप्शनऑप्शनअनुबंध
  • फॉरवर्डअनुबंध
  • विनिमयअनुबंध

अब हम मुद्रा डेरिवेटिव अनुबंधों के प्रत्येक प्रकार पर विस्तार से नज़र डालेंगे:

1. फ्यूचर्स कॉन्ट्रैकट्स

फॉरवर्ड अनुबंध के समान, फ्यूचर अनुबंध एक ऐसा सहमति पत्र होता है जिसमें कुछ निर्दिष्ट मूल्यों पर भविष्य की तिथि पर अंतर्निहित साधन खरीदना या बेचना शामिल होता है। फ्यूचरअनुबंध में, विक्रेता और खरीदार दोनों ही एक ऐसा सहमति पत्र का चयन करते हैं जो निम्नलिखित रूप वर्णित है। फ्यूचर अनुबंध के माध्यम से उनके बीच का सहमति पत्र एक विनिमय होता है। चूंकि फ्यूचर अनुबंध एक मानकीकृत अनुबंध होता है, इसलिए इसमें काउंटरपार्टी का जोखिम काफी कम होता है। इसके अतिरिक्त, अनुबंध के दोनों पक्षों के लिए क्लियरिंग हाउस काउंटर पार्टी के रूप में कार्य करता है जिससे क्रेडिट का जोखिम और कम हो जाता है।

एक मानकीकृत अनुबंध होने के कारण, फॉरवर्ड अनुबंध स्टॉक एक्सचेंज द्वारा निर्धारित और विनियमित किया जाता है, फ्यूचर अनुबंध स्टॉक एक्सचेंज पर सूचीबद्ध होते हैं और प्रकृति में मानकीकृत होते हैं, इसलिए उन्हें किसी भी तरह से संशोधित नहीं किया जा सकता। इसे आसान बनाए रखने के लिए, इन अनुबंधों का एक प्रारूप होता है जो उनकी समाप्ति तिथि और आकार के संदर्भ में पहले से निर्धारित किया जाता है। भविष्य में डेरिवेटिव प्रतिभूति अनुबंध में, प्रारंभिक मार्जिन अक्सर संपार्श्विक के रूप में आवश्यक होता है, जबकि इनका निपटान दैनिक आधार पर किया जाता है।

ऑप्शन अनुबंध

एक ऑप्शन डेरिवेटिव अनुबंध एक दूसरे प्रकार का डेरिवेटिव अनुबंध होता है। इस प्रकार का डेरिवेटिव पहले उल्लिखित फ्यूचर और फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट दोनों से भिन्न होता है, क्योंकि इसमें किसी पूर्वनिर्धारित तिथि पर अनुबंध के साथ वितरण करना अनिवार्य नहीं होता है। इसलिए, ऑप्शन अनुबंध इस प्रकार के अनुबंध होते हैं जो व्यापारी को बेचने या अंतर्निहित परिसंपत्ति खरीदने के दायित्व के बिना अधिकार देते हैं। इसमें दो अलग-अलग प्रकार के ऑप्शन: पुट ऑप्शन या कॉल ऑप्शन  होते हैं। कॉल ऑप्शन में, खरीदार को अनुबंध करते समय एक पूर्व  निर्धारित मूल्य पर परिसंपत्ति खरीदने का अधिकार प्राप्त होता है।

वैकल्पिक रूप से, एक पुट ऑप्शन में, क्रेता को अनुबंध करते समय पूर्व निर्धारित दर पर अंत र्निहित परिसंपत्तियों को बेचने का खरीदने का अवसर  मिलता है लेकिन परिसंपत्ति बेचने का दायित्व शामिल नहीं होता है। इन दोनों अनुबंधों में, खरीदार को समाप्ति अवधि को या उससे पहले अपने अनुबंध का निपटान करने का ऑप्शन मिलता है। इसलिए, ऑप्शन अनुबंध में ट्रेड करने वाला कोई भी व्यक्ति निम्न चार स्थितियों में से किसी एक का चुनाव कर सकता है – वह या तो  कॉल कर सकता है या फिर लंबे या कम समय की स्थितियों के साथ पुट ऑप्शन ले सकता है।  ऑप्शन  डेरिवेटिव का ट्रेड स्टॉक  एक्सचेंज और काउंटर मार्केट पर किया जाता है।

1. फॉरवर्ड अनुबंध

आइए माना  कि ट्रेड करने वाले दो पक्ष एक ऐसा अनुबंध करते हैं जहां वे अंतर्निहित एसेट को किसी भविष्य की तिथि पर सहमत कीमत पर बेचते हैं या खरीदते हैं।॰ यह एक फॉरवर्ड अनुबंध होता है। यह जाना पहचाना लगता है? एक फ्यूचर अनुबंध फॉरवर्ड अनुबंध के समान ही होता है। फॉरवर्ड अनुबंध में दोनों पक्षों को भविष्य की तिथि पर कुछ अंतर्निहित  प्रतिभूति को बेचने का अनुबंध होता है। फॉरवर्ड अनुबंध को काउंटर पार्टी जोखिम की एक अच्छी मात्रा के लिए अनुकूलित किया जाता है, जो कॉन्ट्रैक्ट की अवधि और आकार पर निर्भर करता है। हालांकि,भविष्य के अनुबंधों के विपरीत, फॉरवर्ड डेरिवेटिव प्रतिभूतियों के अनुबंध के लिए कोई संपार्श्विक आवश्यक नहीं होता है, क्योंकि वे स्व-नियमित होते हैं। भारत में फॉरवर्ड अनुबंध अपनी परिपक्वता तिथि पर निपटान किए जाते हैं, और इसलिए, उन्हें अपने समाप्ति अवधि पर समय से वापस करना  होता है।

1. विनिमय अनुबंध

ये शायद भारत में सबसे जटिल प्रकार के डेरिवेटिव होते हैं। विनिमय अनुबंध, सामान्यतः दो ट्रेड पक्षों के बीच एक आपसी समझौता होता है। अनुबंध में दोनों पक्ष एक पूर्व निर्धारित सूत्र के अनुसार भविष्य में किसी समय पर अपना नकद प्रवाह बदलने का ऑप्शन चुनते हैं। विनिमय अनुबंध के अंतर्गत मुद्रा या तो एक ब्याज़ दर या स्वयं मुद्रा के रूप में संपार्श्विक होती है  जिसमें दोनों की ही प्रकृति अस्थिर होती है। इसलिए, विनिमय अनुबंध की प्रवृत्ति पक्षों को विभिन्न जोखिमों से सुरक्षित रखने की होती है। इस प्रकार की डेरिवेटिव प्रतिभूतियों का ट्रेड सार्वजनिक एक्सचेंज पर नहीं किया जाता है। इस के बजाय, ऐसे लेन देन में निवेश बैंकर मध्यस्थ के रूप में कार्य करते हैं।

निष्कर्ष

सर्वश्रेष्ठ सुरक्षा के साधनों में से कुछ साधन फॉरवर्ड अनुबंध, फ्यूचर, ऑप्शन और विनिमय अनुबंध जैसे डेरिवेटिव अनुबंध होते हैं। ट्रेडर्स को इन डेरिवेटिव अनुबंधों का उपयोग करके मूल्यों की हलचल की भविष्यवाणी करने का अवसर मिलता है और इस प्रकार उनके माध्यम से उनके लाभ के मार्जिन में सुधार होता है।