डिमटेरियलाइज़ेशन क्या है

फिजिकल फॉर्मेट में शेयर सर्टिफिकेट धरण करने पर सर्टिफिकेट जालसाज़ी, महत्वपूर्ण शेयर सर्टिफिकेट खोना और सर्टिफिकेट ट्रांसफर में देरी जैसे जोखिम होते हैं। डीमटीरियलाइज़ेशन ग्राहक को अपने फिजिकल सर्टिफिकेट को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में बदलने की अनुमति देता है, जिससे उपरोक्त परेशानियों को दूर हो जाती है।

डिमटीरियलाइज़ेशन के बारे में आपको जो भी जानने की आवश्यकता है:

  • प्रतिभूतियोंका डिमटेरियालाइज़ेशन।
  • डिमटेरियलाइजेशनकी प्रक्रिया।
  • डिमटीरियलाइज़ेशनकी आवश्यकता क्यों थी?
  • डीमटेरियलाइज़ेशनके फ़ायदे।

प्रतिभूतियों का डिमटी रियलाइज़ेशन  क्या है?

डीमटेरियलाइजेशन वह प्रक्रिया है जिसके माध्यम से शेयर सर्टिफिकेट और अन्य दस्तावेज़ जैसे फिजिकल प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में बदला जाता है और डीमैट अकाउंट में रखा जाता है।

शेयरधारक की प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रोनिक रूप में धारण करने के लिए एक डिपॉजिटरी जिम्मेदार है। ये प्रतिभूतियां बॉन्ड, सरकारी प्रतिभूतियां और म्यूचुअल फंड यूनिट के रूप में हो सकती हैं, जो पंजीकृत डिपॉजिटरी प्रतिभागी (डीपी) (DP) द्वारा धारित हैं। डिपॉजिटरी अधिनियम, 1996 के अनुसार डीपी (DP) ट्रेडर और निवेशक को डिपॉजिटरी सेवाएं देने वाला डिपॉजिटरी का एजेंट है।

वर्तमान में, भारत में सेबी (SEBI) के साथ दो डिपॉजिटरी पंजीकृत हैं और  संचालन करने के लिए लाइसेंस प्राप्त है:

एनएसडीएल (NSDL) (नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड।)

सीडीएलएस (CDSL) (सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज़ (इंडिया) लिमिटेड।)

डिमटेरियलाइजेशन का लघु इतिहास

1991 में भारतीय अर्थव्यवस्था के उदारीकरण के बाद, पूंजी बाजारों को विनियमित करने के लिए 1992 में भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) (SEBI)  बनाया गया था। डिपॉजिटरी अधिनियम, 1996 के माध्यम से प्रतिभूतियों के डिमटेरियलाइज़ेशन की प्रक्रिया को लाने में सेबी (SEBI) महत्वपूर्ण था। कंपनी (संशोधन) अधिनियम, 2000 के तहत ₹ 10 करोड़ या उससे अधिक के आईपीओ (IPO) को केवल डिमटेरियलाइज्ड रूप में रिलीज़ करना अनिवार्य हो गया। वर्तमान में, डीमैट अकाउंट के बिना आप शेयरों में ट्रेड नहीं कर सकते हैं।

 डिमटेरियलाइज़ेशन की प्रक्रिया

  1. डिमटेरियलाइज़ेशन डीमैटअकाउंट खोलने से शुरू होता है। डीमैट अकाउंट खोलने के लिए, आपको डीमैट सेवाएं  देने वाले डिपॉजिटरी प्रतिभागी (डीपी) (DP) को चुनना होगा
  2. भौतिकशेयरों को इलेक्ट्रॉनिक/डीमैट रूप में बदलने के लिए, एक डिमटीरियलाइज़ेशन अनुरोध फॉर्म(डीआरएफ़) (DRF), जो डिपॉजिटरी भागीदार (डीपी) (DP) के पास उपलब्ध है, शेयर सर्टिफिकेट के साथ भरना होगा और जमा करना होगा। प्रत्येक शेयर सर्टिफिकेट पर, ‘डिमटीरियलाइज़ेशन के लिए सरेंडर किया गया’ का उल्लेख किया जाना चाहिए
  3. डीपी (DP)को कंपनी के शेयर सर्टिफिकेट के साथ ही रजिस्ट्रार और ट्रांस्फर एजेंट के साथ   डिपॉजिटरी के माध्यम से इस अनुरोध को संसाधित करना होगा
    अनुरोध स्वीकृत होने के बाद, फिजिकल रूप में शेयर सर्टिफिकेट नष्ट हो जाएंगे और डिमटेरियलाइज़ेशन की पुष्टि डिपॉजिटरी को भेज दी जाएगी
  4. फिरडिपॉजिटरी डीपी (DP) में शेयरों की डिमटीरियलाइज़ेशन की पुष्टि करेगा। यह हो जाने के बाद, शेयर धारण में क्रेडिट निवेशक के अकाउंट में इलेक्ट्रॉनिक रूप से  दिखाई देगा
  5. यहसाइकिल  डीमटीरियलाइज़ेशन अनुरोध सबमिट करने के बाद लगभग 15 से 30 दिन लेती है
  6. डिमटीरियलाइज़ेशनकेवल डीमैट अकाउंट के साथ संभव है, इसलिए डिमटेरियलाइज़ेशन को समझने के लिए यह सीखना ज़रूरी है कि डीमैट अकाउंट कैसे  खोलें

एंजल वन सीडीएसएल (CDSL) के साथ रजिस्टर्ड एक डीपी (DP) है और डीमैट अकाउंट खोलने के लिए आसान प्रक्रिया ऑफ़र करता है। अगर आप एंजल वन के साथ (स्टॉक निवेश के लिए ज़ीरो ब्रोकरेज के साथ)  डीमैट अकाउंट खोलना चाहते हैं या सिर्फ़ प्रक्रिया देखना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें।

डीमटेरियलाइज़ेशन के फ़ायदे

प्रतिभूतियों के डिमटेरियलाइज़ेशन के फ़ायदों की एक विस्तृत शृंखला हैं। उनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

सुविधा की गारंटी

आप कहीं से भी  अपने शेयर और लेनदेन को सुविधाजनक रूप से प्रबंधित कर सकते हैं (यानि यह निवेशक कोफिजिकल रूप से मौजूद होने की आवश्यकता को समाप्त करता है), जिसमें स्मार्टफोन या कंप्यूटर शामिल हैं। प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रॉनिक इक्विटी में  बदलना  आपको अपने शेयरों का कानूनी मालिक मानता हैं। इसके बाद, सेर्टिफिकेट कंपनी के रजिस्ट्रार को  ट्रांसफर करने की आवश्यकता नहीं है।

कम लागत

  1. आपकीइलेक्ट्रॉनिक प्रतिभूतियों पर स्टाम्प ड्यूटी नहीं लगाई जाती है
  2. लगाएगए धारण शुल्क नाममात्र हैं
  3. आपविषम लॉट में प्रतिभूतियां खरीद सकते हैं और एक ही प्रतिभूति खरीद सकते हैं
  4. कागज़ी कामकी समाप्ति के कारण, लेनदेन पूरा करने में लागने वाला समय कम हो जाता है। यह प्रक्रिया कागज़ के कम उपयोग के कारण पर्यावरण के अनुकूल भी हो जाती है।

नॉमिनीज़ को ज़रूर शामिल करें

नॉमिनी को शामिल करना निवेशक को आपकी अनुपस्थिति में अकाउंट को संचालित करने के लिए नॉमिनी को अधिकार देने की अनुमति देगा

लेनदेन की सुरक्षा करता है

प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों से  क्रेडिट और ट्रांसफर किया जाता है। इसलिए, कागज़ी प्रतिभूतियों से संबंधित जोखिम, जैसे त्रुटि, धोखाधड़ी और चोरी टल जाते हैं।

लोन स्वीकृति में मदद

लोन प्राप्त करने के किए बॉन्ड और ऋणपत्र जैसी मौजूदा प्रतिभूतियों का उपयोग कोलैटरल के रूप में किया जा सकता है, अक्सर कम रेट पर क्योंकि प्रतिभूतियां ज़्यादा लिक्विड हो जाती है।

सभी हितधारकों के लिए लेनदेन की लागत को कम करता है

लेनदेन लागतों में उल्लेखनीय कमी होती है क्योंकि डिपॉजिटरी सुनिश्चित करती है कि पात्रता सीधे निवेशक के अकाउंट में क्रेडिट की जाती है। पेपरलेस ट्रैकिंग और रिकॉर्डिंग प्रतिभूतियों की लागत कम से कम हो जाती है। यह हितधारकों को दफ़्तर के काम पर नहीं बल्कि रणनीति पर ध्यान केंद्रित करने की अनुमति देता है, जिससे भागीदारी, लिक्विडिटी और लाभ बढ़ जाते हैं।

स्पीड सुविधा

यह आपको डिपॉजिटरी प्रतिभागी को इलेक्ट्रॉनिक रूप से निर्देश की पर्ची भेजने में सक्षम बनाता है। तेज़ ट्रांसफ़र के शेयर, ब्याज़, लाभांश, स्टॉक स्प्लिट और रिफंड के बोनस जैसे फ़ायदे हैं। यह मार्केटमार्केटमार्केटमार्केटमार्केटमार्केटमार्केटबाज़ार में लिक्विडिटी को भी बढ़ाता है।

अस्थायी रोकना

आपको अपने डीमेट अकाउंट को  एक विशेष अवधि के लिए रोकने की भी अनुमति है। हालांकि, आप  इस सुविधा का उपयोग केवल तभी कर सकते हैं जब आपके अकाउंट में किसी विशेष नंबर के शेयर हों।

शेयर ट्रांसफर करें

डीमैट अकाउंट का उपयोग करके शेयर ट्रांसफर करना आसान  और अधिक पारदर्शी हो जाता है। आपकी डिपॉजिटरी के प्रतिभागियों को आपके शेयर ट्रांसफर करने के लिए केवल एक विधिवत हस्ताक्षरित डीआईएस (DIS) (डिलीवरी इंस्ट्रक्शन स्लिप) भेजनी होती है।

आसान और तेज़ संचार

जानकारी साझा करने या ऑर्डर के लिए दलालों या अन्य ऑफ़िसों में जाने की आवश्यकता नहीं है – इससे निवेशकों का आत्मविश्वास बढ़ जाता है। देरी का जोखिम कम हो जाता है।

बाज़ार की  भागीदारी में बढ़ोतरी

बाज़ार में ट्रेडिंग और लिक्विडिटी की विस्तार बढ़ जाता है

डिमटीरियलाइज़ेशन में समस्याएं

हाई फ्रीक्वेंसी शेयर ट्रेडिंग

आसान संचार और ऑर्डर ने बाज़ारों को अधिक लिक्विड बना दिया  लेकिन अधिक परिवर्तनशील भी बना दिया है। इसलिए निवेशक अक्सर दीर्घकालिक लाभ की तुलना में अल्पकालिक लाभ पर अधिक ध्यान केंद्रित करते हैं।

प्रौद्योगिकीय चुनौती

बेहतर सॉफ्टवेयर और कंप्यूटर के कौशल वाले लोगों की तुलना में  कंप्यूटर को तेज़ी से चलाने की कम क्षमता वाले लोग या  कंप्यूटर को धीरे चलाने वाले लोग  नुकसान में होते हैं

ऊपर बताए गए डिमटेरियलाइज़ेशन के फ़ायदों के अलावा, शेयरों के डिमटेरियलाइज़ेशन की प्रक्रिया को करते समय ध्यान में रखने के लिए कुछ अधिक जानकारी यहां दी गई है।

एक कंपनी द्वारा शेयरों का डिमटेरियलाइज़ेशन

कोई भी प्राइवेट लिमिटेड कंपनी एनएसडीएल (NSDL) जैसे डिपॉजिटरी के साथ-साथ मौजूदा रजिस्ट्रार और ट्रांसफर एजेंट (आरटीए) (RTA) के साथ समझौते पर हस्ताक्षर करके डीमैट शेयर जारीकर्ता बन सकती है। आरटीए (RTA) कंपनी और एनएसडीएल (NSDL) के बीच मध्यस्थ के रूप में कार्य करता है और शेयरों के  क्रेडिट और ट्रांसफर को पूरा करने के लिए जिम्मेदार होता है। एक बार डिपॉजिटरी सिस्टम में प्रतिभूति भर्ती होने के बाद एनएसडीएल (NSDL) कंपनी के प्रत्येक शेयर के लिए एक इंटरनेशनल सिक्योरिटीज़ आइडेंटिफिकेशन नंबर (आईएसआईएन) (ISIN) देगा।

आपकी प्रतिभूतियों की सुरक्षित और कुशल संचालन के लिए, एंजल वन जैसी मान्यताप्राप्त स्टॉकब्रोकिंग कंपनियों से संपर्क करें, जो उद्योग में सर्वश्रेष्ठ डीमैट अकाउंट सेवाएं  देती हैं। यह एक भारतीय स्टॉकब्रोकिंग कंपनी है जो 1987 से उल्लेखनीय काम कर रही है।

डिमटेरियलाइज़ेशन का क्या महत्व  है?

 

डिमटेरियलाइज़ेशन का अर्थ है, फिजिकल शेयर सर्टिफिकेट को उनके इलेक्ट्रॉनिक रूप में बदलना। यह भारतीय इक्विटी बाज़ार के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है। इसने  डिजिटाइज़ेशन को अपनाने में इसकी मदद की और पूरी ट्रेडिंग प्रक्रिया को आसान, समस्यामुक्त और सुरक्षितबनाया है। इसके अलावा, यह,

  • सुविधाजनकहै
  • सुरक्षित है
  • कुशल है
  • पेपरलेस है, और
  • बहुउद्देश्य है

शेयर डिमटेरियलाइज करने में कितना समय लगता है?

आमतौर पर फिजिकल शेयर को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में बदलने में 15 से 30 दिन लगते हैं।

डिपॉजिटरी क्या है?

 

डिपॉजिटरी एक ऐसी सुविधा है जो चीजों के सुरक्षित रखने वाले के रूप में कार्य करती है; वह करेंसी, स्टॉक और प्रतिभूतियां हो सकती हैं। बैंक वित्तीय डिपॉजिटरी के उदाहरण हैं। इसी प्रकार, एनएसडीएल (NSDL) और सीडीएसएक (CDSL) ट्रेडिंग सिस्टम को सुविधाजनक बनाने के लिए शेयरों के संरक्षक के रूप में काम करते हैं।

डिपॉजिटरी सेवाओं के फ़ायदे उठाने के क्या  लाभ हैं?

 

डिपॉजिटरी सिस्टम में विभिन्न भूमिकाएं निभाते हैं। ये हैं,

  • सुविधाऔर सुरक्षऑफ़र करना
  • ट्रेडिंगप्रक्रिया को तेज़  बनाना
  • खराबडिलीवरी, देरी, नकली प्रतिभूतियों से जुड़े जोखिमों को दूर करना
  • कागज़ी कामको समाप्त करना
  • प्रतिभूतियों के ट्रांसफर पर कोई स्टाम्प ड्यूटी न लगाई जाना
  • कमलागत वाले लेनदेन, नॉमिनी सुविधा, शेयर पर लोन आदि जैसे फ़ायदे देना

विभिन्न प्रकार की डिपॉजिटरी क्या हैं?

तीन मुख्य प्रकार की डिपॉजिटरी हैं,

  • क्रेडिटयूनियन
  • बचतसंस्थान
  • व्यावसायिकबैंक

डीमैट अनुरोध को संसाधित करने में कितना समय लगता है?

आपकी फिजिकल प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में बदलने में 15-30 दिन लगते हैं।

डीमैट अकाउंट खोलने की क्या प्रक्रिया है?

आजकल, आप सुविधाजनक रूप से डीमैट अकाउंट ऑनलाइन खोल सकते हैं।

आप ऑनलाइन आवेदन फॉर्म भर सकते हैं और केवाईसी (KYC) प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं। आपके दस्तावेज़ सत्यापित हो जाने के बाद आपका अकाउंट सक्रिय हो जाएगा।

आप अपने डिपॉजिटरी प्रतिभागी के रूप में किसे चुनते हैं, इसके आधार पर, आपको अपने डीमैट अकाउंट पर कुछ शुल्क का भुगतान करना पड़ सकता है। हालांकि,  एंजल वन के साथ, आप  निःशुल्क डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं।