पिंक शीट स्टॉक्स के बारे में जानें

पिंक शीट स्टॉक्स ऐसी सिक्योरिटीज़ हैं जो नैस्डैक (NASDAQ) या एनवाईएसई (NYSE) जैसे महत्वपूर्ण स्टॉक्स एक्सचेंज की बजाय ओवर-द-काउंटर मार्केट पर लिस्टेड हैं और वहीं ट्रेड की जाती हैं. इस आर्टिकल में, आइए इसके बारे में अधिक जानें.

सभी स्टॉक्स एक्सचेंज पर ट्रेड नहीं किए जाते हैं – पिंक शीट स्टॉक्स इसी प्रकार के स्टॉक्स हैं. 

पिंक शीट स्टॉक्स क्या हैं?

पिंक शीट स्टॉक्स वे स्टॉक्स हैं जो नैस्डैक (NASDAQ), एनएसई (NSE), बीएसई (BSE) आदि जैसी रेगुलेटेड मार्केट्स की बजाय ओवर द काउंटर (OTC) मार्केट पर ट्रेड किए जाते हैं. ओवर द काउंटर (OTC) मार्केट में, डील सीधे दो डीलरों के बीच होती है. इसी कारण, ओटीसी (OTC) मार्केट को ऑफ़ -एक्सचेंज भी कहा जाता है. ओटीसीएम (OTCM)– ओटीसी (OTC) मार्केट ग्रुप एक ओटीसी (OTC) लिस्टिंग वाला एक्सचेंज है; आमतौर पर, इस एक्सचेंज पर ट्रेड किए गए स्टॉक्स को देखने के लिए पिंक शीट का इस्तेमाल किया जाता है. ओवर-द-काउंटर मार्केट में ट्रेड किए गए पिंक शीट स्टॉक्स फ़ाइनेंशियल रिपोर्टिंग स्टैंडर्ड के अधीन नहीं हैं और अन्य सार्वजनिक रूप से ट्रेड किए गए बिज़नेस ट्रेडिंग पर महत्वपूर्ण एक्सचेंजेस एसईसी (SEC) के विपरीत, सिक्योरिटीज़ और एक्सचेंज कमीशन के साथ किसी भी प्रकार की फ़ाइनेंशियल रिपोर्टिंग फाइल करने के लिए बाध्य नहीं हैं.

पिंक शीट स्टॉक्स को ओटीसी (OTC) स्टॉक्स के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि इसके कारण ऊपर दिए गए हैं. इन सभी स्टॉक्स को सीधे काफी अधिक मात्रा में ट्रेड किया जाता है और इस खास  कारण से इनकी  ट्रेडिंग लागत अधिक होती है. इन स्टॉक्स की लिक्विडिटी कम होती है, जिससे खरीदारों को खोजने के लिए काफी इंतज़ार करना होता है.

छोटे बिज़नेस में फॉर्म 211 जमा करना होगा, जो पिंक शीट लिस्टिंग में पिंक शीट स्टॉक्स को लिस्टकरने के लिए ओटीसी (OTC) यूनिट के अनुपालन में कुछ फ़ाइनेंशियल जानकारी देता है. इन बिज़नेस को उन ब्रोकरों और डीलरों के लिए अपनी फ़ाइनेंशियल स्थिति या जानकारी को पारदर्शी बनाने की ज़रूरत नहीं है, जो अपनी सिक्योरिटीज़ को मार्केट करने का फैसला कर सकते हैं.

पिंक शीट स्टॉक्स के उदाहरण.

पिंक शीट स्टॉक्स को आमतौर पर पेनी स्टॉक्स कहा जाता है. ओटीसी (OTC) मार्केट ग्रुप पेनी स्टॉक्स के उदाहरणहैं, जिनमें: एक चाइनीज़ मल्टीमीडिया कंपनी, टेन्सेंट होल्डिंग्स लिमिटेड (TCEHY), एक ऑस्ट्रेलियन सिक्योरिटीज़ कंपनी, बीएचपी (BHP) ग्रुप लिमिटेड (GBTC), एक अमेरिकन बिटकॉइन ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म, ग्रेस्केल बिटकॉइन ट्रस्ट (GBTC), प्लेटफ़ॉर्मशामिल हैं.

ये पिंक शीट स्टॉक्स कैसे काम करते हैं?

अनलिस्टेड कंपनियों की सिक्योरिटीज़ ओवर-द-काउंटर मार्केट में ट्रेड की जाती हैं. ट्रेडर और ब्रोकर का एक इलेक्ट्रॉनिक डिसेंट्रलाइज़्ड सिस्टम ओटीसी (OTC) प्लेटफ़ॉर्म बनाताहै जो पेनी स्टॉक्स या पिंक शीट स्टॉक्स को एक्सचेंजकरते हैं. इन मार्केट में महत्वपूर्ण रेगुलेटेड मार्केट केमानदंड एक से नहीं हैं. ये मार्केट्स दो अलग-अलग लेवल पर ऑपरेशन की सुविधा प्रदान करते हैं.

ओटीसीबीबी (OTCBB), जो नैस्डैक (NASDAQ) के द्वारा चलाया जाता है, पहला लेवल है. “ओटीसीबीबी (OTCBB)” शब्द एक इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम डिस्प्ले को रेफ़र करता है जो ओटीसी (OTC) स्टॉक्स को अपने वॉल्यूम डेटा और रियल-टाइम कोटेशन के साथ दिखाता है. ओटीसीबीबी (OTCBB स्टॉक्स में OB सफ़िक्स होता है और सिक्योरिटीज़ और एक्सचेंज कमीशन (SEC) को फ़ाइनेंशियल स्टेटमेंट सबमिट करने होंगे. पिंकशीट प्लेटफ़ॉर्म दूसरा है. इसके अलावा, ये शेयर ओटीसीक्यूएक्स (OTCQX) और ओटीसीक्यूबी (OTCQB) नेटवर्क दो प्रकार के हैं.

ओटीसीक्यूएक्स (OTCQX)के लिए क्वालिटेटिव इवैल्यूएशन की ज़रूरत होती है, जबकि ओटीसीक्यूबी (OTCQB) में कम से कम एक पैनी स्टॉक्स की ज़रूरत होती है और यह कन्फ़र्म करने के लिए कि कंपनी की जानकारी पूरी सही और अप-टू-डेट है, एनुअल सर्टिफिकेशन का इस्तेमाल करता है

ब्रोकर को इंटेरेस्टेड विक्रेता और खरीदार मिलते हैं और पिंक शीट स्टॉक्स को खरीदने और बेचने में एक-दूसरे का सहयोग करते हैं. डेटा की कमी के कारण स्टॉक्स की पूरी जांच के लिए, कुछ समय लग सकता है. ब्रोकर्स बिड-आस्क के व्यापक स्प्रेड या सेल-साइड के बीच प्राइस कोट्स लेते हैं और बार-बार ट्रेडिंग के कारण, उनकी लिक्विडिटी पर प्रभाव और सही कीमत पर उनके ट्रेडिंग में कठिनाई का सामना करते हैं. इन्वेस्टमेंट के बहुत अप्रत्याशित होने के कारण, इन्वेस्टर अपने शुरुआती इन्वेस्टमेंट के सभी या महत्वपूर्ण हिस्से को खोने में असुरक्षित हो सकते हैं.

पिंक शीट स्टॉक्स के फ़ायदे.

  1. पिंक शीट स्टॉक्स छोटे बिज़नेसमैन को आम जनता को शेयर बेचकर पैसे जुटाने का एक विकल्प देते हैं. यह देखते हुए कि छोटे बिज़नेस में आमतौर पर ट्रेडिंग का लागत कम होती है, इन्वेस्टर के लिए अपने इन्वेस्टमेंट पर बड़े रिटर्न अर्जित करते समय स्टेकहोल्डर बनना तुलनात्मक रूप से आसान होता हैबशर्ते बिज़नेस सफल हो.
  2. इनवेस्टर संबंधित कंपनी के स्टॉक्स के ऊपर की ट्रेंड से फ़ायदा उठा सकते हैं क्योंकि यह आख़िरकार एक प्रमुख एक्सचेंज पर ट्रेड कर सकता है. क्योंकि उन्हें प्रमुख एक्सचेंज की हाई लिस्टिंग फ़ीस का भुगतान नहीं करना पड़ता है. पिंक शीट के ट्रांज़ैक्शन्स में आमतौर पर ट्रांज़ैक्शन की लागत कम होती है, जो इसे बहुत किफायती बना देती है.

पिंक शीट स्टॉक्स के नुकसान.

  1. क्योंकि फ़ाइनेंशियल जानकारी शेयर करना कानूनी रूप से ज़रूरी नहीं हैं, इसलिए पिंक शीट स्टॉक्स कीमत में कमी और धोखाधड़ी के लिए बहुत असुरक्षित हैं. इसी कारण से, पिंक शीट की एंट्रीज़ शेल कॉर्पोरेशन्स हो सकती है. कंपनियों की पारदर्शिता का अभाव इनवेस्टर्सके लिए इनवेस्ट करने से पहले आवश्यक पैसे जमाकरना चुनौतीपूर्ण बना सकता है, जो इन इनवेस्टमेंट्स को रिस्की बनाता है.
  2. मार्केट में उनके असामान्य और अस्थिर होने कारण, खरीदारों या विक्रेताओं को खोजना बहुत चुनौतीपूर्ण हो सकता है. कुछ पिंक शीट स्टॉक्स को धोखाधड़ी वाले शेल कॉर्पोरेशन के रूप में भी पहचाना गया है, और कुछ मामलों में, वे दिवालिया होने की कगार में हैं.

निष्कर्ष

अब जब आपने पिंक शीट स्टॉक्स को ठीक से समझ लिया है, एंजेल वन में अपना डीमैट अकाउंट खोलें और पैसे कमाना शुरू करें.